उज्जवला शर्मा को मिला न्याय, एनडी तिवारी के साथ रहेंगी


हलो यू पी ( 03 - 05 - 2014 ) - लखनऊ. वरिष्ठ कांग्रेसी नेता नारायण दत्त तिवारी के घर में फिर से जंग छिड़ गई है। शुक्रवार को उनके बेटे रोहित शर्मा की मां उज्ज्वला शर्मा अपने समर्थकों के साथ लखनऊ स्थित उनके घर पर पहुंच गईं। सुरक्षाबलों द्वारा उनको घर में आने से रोकने के बाद वह अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठ गईं। इसके बाद भी जब दरवाजा नहीं खुला तो लोग गेट तोड़कर घर में घुस गए। बाद में एनडी तिवारी, भवानी भट्ट और उज्ज्वला शर्मा के बीच बातचीत के बाद मामला शांत हुआ। इसके बाद शुक्रवार की शाम उज्ज्वला तिवारी के घर रहने पहुंच गई। अब वह तिवारी के घर में लिव-इन रिलेशनशिप में रहेंगी। शुक्रवार दिन में तिवारी के घर के बाहर इस मामले में खूब ड्रामा हुआ। एनडी के ओएसडी भवानी भट्ट ने उज्‍ज्‍वला व उनके समर्थकों को हटवाने के लिए पुलिस बुलवा ली। इसके बाद पहुंची पुलिस लोगों को घर से बाहर निकालने लगी। दोनों पक्षों में झड़प भी हुई। बाद में आपसी बातचीत के बाद मामला शांत हुआ। इस दौरान सीओ हजरतगंज दिनेश यादव पुलिस बल के साथ घर में तैनात रहे। जानकारी के मुताबिक, इस बार विवाद तिवारी के बेटे रोहित शेखर को लेकर नहीं, बल्कि रोहित की मां डॉ. उज्ज्वला शर्मा और ओएसडी भवानी भट्ट के बीच है। उज्ज्वला ने भवानी भट्ट और तिवारी के भतीजे मनीष तिवारी पर आरोप लगाया कि वे नहीं चाहते कि तिवारी और उनके बीच रिश्ते ठीक हों। उनको बंधक बना लिया गया है और घर में घुसने से रोका जाता है। ओएसडी ने दिया इस्तीफा नारायण दत्त तिवारी के घर हुए इस हाई वोल्टेज ड्रामे के बाद मामले में नया मोड़ आया। कई वर्षों तक तिवारी के विश्वासपात्र और ओएसडी रहे भवानी दत्त भट्ट ने ओएसडी पद से अपना इस्तीफा दे दिया है। भेजे गए एक पत्र में भट्ट ने कहा कि नारायण दत्त तिवारी के खिलाफ लगातार साजिश रची जा रही है। इसी साजिश के तहत उज्ज्वला शर्मा उनके सरकारी आवास में दाखिल होने के लिए तरह-तरह के बहाने बना रही है और ऐसे तरीके आजमा रही है। उज्ज्वला ने दी जान से मारने की धमकी भवानी दत्त भट्ट ने आरोप लगाया है कि उज्ज्वला शर्मा ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी है। भट्ट ने कहा कि उज्ज्वला ने तिवारी के सामने लिव-इन रिलेशन में रहने का प्रस्ताव रखा। भट्ट का कहा कि यदि वे उस आवास में रहते हैं, तो उनके ऊपर किसी भी तरह का बेतुका आरोप लग सकता है। ऐसे माहौल में वे तिवारी की देख-रेख और सुरक्षा करने में अपने-आपको असमर्थ पा रहे हैं। इसलिए उन्होंने राज्य सरकार को अपना इस्तीफ़ा भेज दिया है। बताते चलें कि तिवारी ने हाल ही में कई सालों बाद सार्वजनिक रूप से स्‍वीकार किया था कि रोहित उनके बेटे हैं। कोर्ट ने भी रोहित को उनका बेटा बता दिया है। इसके बाद रोहित की मां भी अपना हक लेने के लिए सक्रिय हो गईं।

इस सेक्‍शन से अन्‍य ख़बरें

वीडियो

आज का स्पेशल

वर्ल्ड रिकॉर्ड : 6 दिन और 5 रातों तक पढ़ाकर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

विश्‍व में 85 धनकुबेरों के पास है दुनिया की आधी दौलत

विज्ञापन