राजनाथ के बाद रीता ने लिया एनडी तिवारी से आशीर्वाद


हलो यू पी ( 28 - 04 - 2014 ) - लखनऊ : उत्तर प्रदेश की सियासत के वरिष्ठ नेता इन दिनों कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नारायण दत्त तिवारी की परिक्रमा करते नजर आ रहे हैं। समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव का तिवारी प्रेम किसी से छिपा नहीं है। विभिन्न मौकों पर तिवारी के प्रति अपने जज्बात जाहिर कर चुके मुलायम ने तिवारी के नैनीताल से लोकसभा चुनाव ल़डने की खबरों के बीच भी उनका साथ देने की बात तक कह डाली थी। मुलायम शान्त हुए तो शनिवार को भाजपा के अध्यक्ष और लखनऊ से लोकसभा प्रत्याशी राजनाथ सिंह तिवारी से अशीर्वाद लेने उनके घर पहुंच गए। मुलयाम की तारीफों के पुल बांधने वाले तिवारी राजनाथ को देखकर इतने गदगद नजर आये कि उन्हें राजा कह डाला और जीत के लिए आशीर्वाद भी दे डाला। इतना सब होने के बाद कांग्रेस के खेमे में खलबली मचना स्वाभाविक था। ऎसे में पार्टी की पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और लखनऊ लोकसभा सीट से प्रत्याशी रीता बहुगुणा जोशी कैसे पीछे रहतीं, इसलिए वह भी रविवार को तिवारी के माल एवेन्यू स्थित आवास पर अपनी नाराजगी लेकर पहुंच गई और उनसे आशीर्वाद मांगा। जोशी ने कहा कि तिवारी एक वरिष्ठ कांग्रेसी नेता हैं और उनका आशीर्वाद जरूरी है। उन्हें तिवारी का राजनाथ को आशीर्वाद देना भी नगवार गुजरा। इसलिए वह तिवारी से बोल प़डी कि राजनाथ सिंह को तो आपने विजयी होने का आशीर्वाद दे दिया लेकिन मुझे कैसे भूल गए। इस पर तिवारी ने जोशी को आशीर्वाद देते हुए कहा कि उन्हें भी जीत मिले। अब एक ही संसदीय सीट से अलग-अलग दल के प्रत्याशियों को कैसे जीत मिलेगी, ये तो तिवारी ही बेहतर जान सकते हैं, लेकिन अपनी चैखट पर आये नेताओं को आशीर्वाद देकर उन्होंने जरूर अपने राजनीतिक कौशल का परिचय दे दिया है। दरअसल एनडी तिवारी सियासत करते हुए जितना लोकप्रिय रहे, उससे कहीं ज्यादा अब वह सियासत से बाहर रहकर सुर्खियां बटोर रहे हैं। लखनऊ में तो जिस तरह से पहले राजनाथ और फिर रीता जोशी उनसे आशीर्वाद लेने पहुंचे, उसके पीछे यहां पह़ाड का गणित बताया जा रहा है, जिसके वोटरों की संख्या डेढ़ लाख के ऊपर है। राजनाथ शायद इसी तबके को अपने पक्ष में करने के लिए तिवारी के पास पहुंचे थे, वहीं जब जोशी को लगा, राजनाथ को मिला आशीर्वाद उनके लिए मुश्किलें पैदा कर सकता है, तो वह भी तिवारी से आशीर्वाद लेकर आ गईं।

इस सेक्‍शन से अन्‍य ख़बरें

वीडियो

आज का स्पेशल

वर्ल्ड रिकॉर्ड : 6 दिन और 5 रातों तक पढ़ाकर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

विश्‍व में 85 धनकुबेरों के पास है दुनिया की आधी दौलत

विज्ञापन