फीफा वर्ल्डकप : जर्मनी बना चैम्पियन, खिताबी मुकाबले में अर्जेंटीना को 1-0 से हराया


हलो यू पी ( 14 - 07- 2014 ) -   

 ब्राजील में वर्ल्ड कप का सफर जर्मनी की जीत के साथ खत्म हुआ। जर्मनी ने फाइनल मुकाबले में अर्जेंटीना को 1-0 से हरा दिया। मैच का एकमात्र गोल अतिरिक्त समय में हुआ, जिसे गोएत्जे ने किया। जर्मनी का ये चौथा वर्ल्ड कप खिताब है।

 

पहली बार दक्षिण अमेरिका में चैंपियन बनी कोई यूरोपियन टीम है जर्मनी। जर्मनी ने 1990 के अंदाज में 2014 को अंजाम दिया। अर्जेंटीना और जर्मनी के बीच हुए इस फाइनल मुकाबले में दोनों टीमों के बीच का अंतर है ये मारियो गोएत्जे का 113वें मिनट में किया गया गोल।

 

इसके साथ ही जर्मनी का 24 साल का इंतजार खत्म हो गया। 1954, 1974 और 1990 के बाद जर्मनी चौथी बार वर्ल्ड चैंपियन बना। इससे पहले आखिरी बार यानी 1990 में अर्जेंटीना को इसी अंतर यानी 1-0 से हराकर जर्मनी चैंपियन बना था।

 

जितना अहम मुकाबला था टक्कर भी उतनी ही जोरदार रही। पूरे 90 मिनट का खेल गोल की तलाश में ही खत्म हो गया। एक पल जर्मनी के हीगुआन की कोशिश परवान नहीं चढ़ पाई तो दूसरे पल अर्जेंटीना के स्टार लियोनल मेसी गोलपोस्ट के पास चूक गए। ऐसा और भी कई बार हुआ। 90 मिनट का समय बिना गोल के खत्म हो गया। इंजरी टाइम में भी जब कोई गोल नहीं हुआ तो अतिरिक्त समय दिया गया।

 

अतिरिक्त समय में भी पहला हॉफ जब खत्म हुआ तो वर्ल्ड कप का फाइनल मुकाबला पेनाल्टी शूटआउट में जाता नजर आने लगा। इसी बीच आंद्रे शर्रेल बायें लाइन पर गेंद लेकर तेजी से आगे बढ़े और उतनी ही तेजी से गोएत्जे ने उनको बैक किया। शर्रल ने गोएत्जे को गोलपोस्ट के करीब पास बढ़ाया। थोड़ी ही देर पहले सब्स्टीच्यूट बनकर खेलने आए जिस अंदाज में गोएत्जे ने उसे गोलपोस्ट का रास्ता दिखाया, उसे टूर्नामेंट के बेहतरीन गोल में से एक कहा जा सकता है।

 

गोएत्जे वर्ल्ड कप फाइनल में विजेता गोल दागने वाले पहले सब्स्टीट्यूट खिलाड़ी बने। वर्ल्ड कप में लगातार तीसरी बार कोई यूरोपियन टीम चैंपियन बनी। जर्मनी ने इस टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा 18 गोल किए। इससे पहले 2002 वर्ल्ड कप में ब्राजील ने सबसे ज्यादा 18 गोल दागे थे।

 

वर्ल्ड कप में मेसी की टीम पहली बार पिछडी, वो भी सिर्फ सात मिनट के लिए। लेकिन इन सात मिनटों के अंतर ने ऐसे घाव दिए जिसे भरने में शायद वर्षों लग जाएं। अर्जेंटीना से बॉर्डर पार कर ब्राजील आए फैंस निराश होकर वापस गए। दूसरी तरफ जोकिम लो और उनकी टीम ने राष्ट्रपति एंजेला मर्केल की मौजूदगी में जी भरकर जश्न मनाया और दुनियाभर में जर्मन टीम के फैंस को खुशी मनाने का मौका दिया।

 

लियोनेल मेसी को गोल्डन बॉल का खिताब

अर्जेंटीना के कप्तान लियोनेल मेसी ने वर्ल्ड कप में गोल्डन बॉल का खिताब जीता। टूर्नामेंट में 4 बार मैन ऑफ द मैच चुने गए मेसी ने इस खिताब के लिए जर्मनी के थॉमस मुलर और नीदरलैंड के आएन रॉबल को पछाड़ा।

 

कोलंबिया के जेम्स रॉड्रिगेज ने जीता गोल्डन बूट का खिताब

टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा गोल कर कोलंबिया के जेम्स रॉड्रिगेज ने गोल्डन बूट के खिताब पर कब्जा जमाया। रॉड्रिगेज ने टूर्नामेंट में 6 गोल किए। वहीं गोल्डन बूट की दौड़ में रॉड्रिगेज के पीछे रहे जर्मनी के थॉमस मुलर और ब्राजील के स्टार खिलाड़ी नेमार।

 

जर्मनी के गोलकीपर मैनुएल न्युअर को गोल्डन ग्लव का खिताब

 

टूर्नामेंट में जर्मनी के लिए शानदार बचाव करने वाले गोलकीपर मैनुएल न्युअर को गोल्डन ग्लव के खिताब से नवाजा गया। न्युएर ने 82 प्रतिशत शॉट्स का बचाव कर जर्मनी को खिताब जिताने में अहम भूमिका अदा की है।

 

खेलजगत क अन्य सेक्‍शन

वीडियो

आज का स्पेशल

वर्ल्ड रिकॉर्ड : 6 दिन और 5 रातों तक पढ़ाकर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

विश्‍व में 85 धनकुबेरों के पास है दुनिया की आधी दौलत

विज्ञापन